‘विद् ज्ञाने’ के अनुसार वेद सम्पूर्ण ज्ञान का श्रोत है। इसमें सृष्टि विषयक ज्ञान सूक्तियों के रूप में वर्णित है। वेद की व्यापकता को देखते हुए सम्प्रति शुक्लयजुर्वेदमाध्यान्दिनीय शाखा के पाठ का अभ्यास करा रहे हैं। आगे हम वेद की पृथक-पृथक शाखाओं यथा उपनिषदादि का ज्ञान भी कराएँगे।